Home Civics Indian Polity : राज्य क्या होता है? What is State ? and...

Indian Polity : राज्य क्या होता है? What is State ? and Element of State

नमस्कार दोस्तों, एक बार फिर आप सभी का स्वागत है SSC CAMPUS के इस आर्टिकल में | इस आर्टिकल मतलब राज्य क्या होता है ?( What is State ?) में आपको Indian Polity के सभी जानकारी मिल जाएगी |

Indian Polity समझने से पहले यह जरूरी है कि आप ‘Polity’ के कुछ Terminology को ध्यान से समझे, क्योंकि Indian Polity को समझने में आपको आसानी होगी | सबसे पहले हम समझते हैं राज्य (State) के बारे में –

राज्य क्या होता है ?( What is State ?)

जब भी ‘राज्य (State)’ शब्द हमारे दिमाग में आता है तो हम अलग-अलग Provinces के बारे में सोचते हैं जैसे – बिहार, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र आदि ये सभी राज्य तो हैं, लेकिन इनका वास्तविक अर्थ किसी भी प्रांत (Provinces) से ना होकर समाज की राजनीतिक संरचना से होता है इसलिए राज्य, उस संगठित इकाई को कहते हैं जो गवर्नमेंट के अंदर में हो तथा जिसमें अंदर और बाहरी संप्रभुता है।

उदाहरण के तौर पर हम समझ सकते हैं की भारत की सरकार, संसद, न्यायपालिका, नौकरशाही से जुड़े सभी अधिकारी इत्यादि | राज्य शब्द का प्रयोग सबसे पहले  इटली के महान विद्वान, Mechavalli ने किया था।

राज्य की परिभाषा (Definition of State) अलग -अलग  दृष्टिकोणों से की गई है। इसी वजह से  राज्य की अनेक परिभाषाएं दी गयी हैं, जो अलग अलग विद्वानों द्वारा दी गयी है –

अरस्तु के अनुसार “राज्य परिवारों और ग्रामों का एक संगठन है जिसका उद्देश्य पूरी तरह से आत्मनिर्भर जीवन की प्राप्ति है।”

जीन बोदाँ के अनुसार – ‘‘राज्य परिवारों का एक संघ है, जो किसी सर्वोच्च शक्ति और तर्क बुद्धि द्वारा शासित होता है।’’

गिलक्रिस्ट (Gillchrist) के अनुसार – “जहां कुछ लोग एक निश्चित क्षेत्र में एक संगठित सरकार के अधीन है और सरकार के आंतरिक मामलों में उनकी संप्रभुता को प्रगट करने का साधन है और बाहरी मामलों में अन्य सरकारों से स्वतंत्र है तो वह राज्य होता है।

गेटेल (Gattell) के अनुसार – राज्य उन व्यक्तियों का संगठन है जो स्थायी तौर पर निश्चित क्षेत्र में रहते है। 

अंत ने हम कह सकते है Indian Polity का शुरुआत और अंत राज्य के साथ ही होता है।

Also Read

  1. रक्त परिसंचरण तंत्र ( Blood Circulatory System ) खून क्या होता है RBC, WBC, Plasma
  2. Human Brain (मानव मस्तिष्क)-Structure and function

राज्य के तत्व (Elements of State)

अगर कोई राज्य है तो उनमें इन चार चीजों का होना बहुत ही जरूरी होता है –

  1. भू-भाग (Geographical area)
  2. जनसंख्या (Population)
  3. सरकार (Government)
  4. संप्रभुता (Sovereignty) 

भू-भाग (Geographical area) :- 

मतलब भूमि का एक ऐसा निश्चित भाग होना चाहिए, जिस पर उस राज्य की सरकारें कामों को कर सके जैसे हम समझ सकते हैं कि भारत का संपूर्ण भाग भारत राज्य का भौगोलिक भू-भाग है । 

जनसंख्या (Population) :- 

जनसंख्या का मतलब यह है कि उस भू-भाग पर एक ऐसा जन समुदाय होना चाहिए जो Political system द्वारा कंट्रोल किया जाता हो ।

सरकार (Government) :-

सरकार कुछ निश्चित व्यक्तियों का समूह होती है जो राज्यों में निश्चित काल के लिए किसी भू-भाग  तथा उस पर उपस्थित जनसंख्या पर शासन करता है।

संप्रभुता (Sovereignty):-

संप्रभुता किसी भी राज्य के लिए बहुत ही जरूरी होता है । मतलब उस सरकार के पास उस राज्य की अपनी भू-भाग और जनसंख्या की सीमाओं के भीतर कोई भी Decisionकरने की पूरी आजादी होनी चाहिए तथा उसे किसी भी बाहरी और भीतरी दबाव में निर्णय करने के लिए बाध्य नहीं होना चाहिए ।

राज्य की चारों के चारों तत्व जरूरी है अगर इनमें से कोई एक भी अनुपस्थित हो तो राज्य की कल्पना ही नहीं की जा सकती, मतलब इन चारों का आप होना बहुत ही जरूरी है तभी राज्य की कल्पना किया जा सकता है ।

In short – What is State ?

State (राज्य) =  Geographical area (भू-भाग ) + Population (जनसंख्या) + Government (सरकार)+ Sovereignty (संप्रभुता)

Country(देश) = State (राज्य) + well define Government + Boundaries + Economical Resources

Nation (राष्ट्र) = Country (देश) + Unity among Diversity + Cultural Heritage + Development

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version